Menu

अंत्येष्टि!

अंत्येष्टि!

यदि आपके अपने ही आपके सर्वश्रेष्ठ प्रतिद्वन्दी हों

और जीत गलाकाट प्रतिष्ठा का प्रश्न;

तो समझ लीजिए बारूद की दीवारों वाला महल आपका परिवेष है…

भटकती चिंगारी आपका भाग्य…

और किसी भी पल आपके महल का आपकी चिता बनना ही आपकी परिणति!

-सुबुद्ध सत्यार्चन

If your greatest opponents are your dear ones….

then you reside in a house of explosives…

And at any moment some random fire would creat your funereal!

-“SatyaArchan’s Truer Tail”

Advertisements
%d bloggers like this: