“अत्याचार धर्म”

एक नया धर्म “अत्याचार धर्म” जन्मा है

जिसके प्रवर्तक, प्रचारक, संचालक और समर्थक

सब स्व-परिभाषित स्वयंभू जमाती / धर्मरक्षक / सुसंदेशक आदि

कहलाना चाहते हैं

किन्तु

वे केवल मानवता की हत्या

के घोर निकृष्ठ कर्म के अतिरिक्त

शेष कुछ भी नहीं कर पाते….!!!

लेखक: सत्यार्चन.SathyaArchan

हिन्द-हिन्दी-हिन्दू-हित-हेतु..... वास्तविक हिन्द हितचिंतक मंच!. प्रयास और परिवर्तन के प्रबल पक्षधर पराजित नहीं होते... हो भी नहीं सकते !!! - #सत्यार्चन #SathyArchan #Satyarchan

अच्छा-बुरा... कुछ तो कहिये...