Menu

आभासी रिश्ते! 

आभासी रिश्ते!  

कहीं तुम आप हो 

कहीं आप तुम क्यूँ? 

कभी किसी भावुक पल

 अपने ही हुए जाते हो 

मगर अगले पल

नजर नहीं आते हो

आभासी दुनियाँ के

आभासी रिश्तों में बँधे

हम खोते हैं••• पाते हैं 

सपने सजाते हैं! 

खोते भी जाते हैं 

  पाते भी जाते हैं! 

ना रिश्ते मरते हैं मगर 

ना नाते कहीं जाते हैं 

ना भावनायें सोती हैं कभी

ना सपने मर पाते हैं 

साँसों के चलने तक हम 

बस यूँ ही जिये जाते हैं! 
 

Advertisements

अच्छा-बुरा... कुछ तो कहिये...

%d bloggers like this: