कैसे कोई जी पाये…

कैसे कोई जी पाये

मरने की जिद कब कोई करे,
जीने की वजह पर मिले नहीं
चाहत जीने की मर जाये,
जीना मुश्किल जब हो जाये,
फिर कैसे कोई जी पाये….!
.
जीने के बहाने जिये बहुत,
बेगाने, अपने किये बहुत,
घावों को अपने ढंक-ढंक कर
औरों के घाव भी सिये बहुत….
अपना ही नासूर जब बन जाये,
खुद ही बह, जाहिर हो जाये,
मुस्कान दिखाये ना दिख पाये

कैसे कोई दर्द छुपा पाये

तब जीना मुश्किल हो जाये
फिर कैसे कोई जी पाये…

#सत्यार्चन

लेखक: सत्यार्चन.SathyaArchan

हिन्द-हिन्दी-हिन्दू-हित-हेतु..... वास्तविक हिन्द हितचिंतक मंच!. प्रयास और परिवर्तन के प्रबल पक्षधर पराजित नहीं होते... हो भी नहीं सकते !!! - #सत्यार्चन #SathyArchan #Satyarchan

अच्छा-बुरा... कुछ तो कहिये...