Menu

क्षणिकायें- 1

-प्रीत की रीत-

रिता उसे! 

और तू रीत!

निभे रीत, 

पनपे प्रीत!

मीत मिले,

 गीत बने! 

सजे साज,

  बजे संगीत!

रीत जा 

बीत जा

मिट जा

और 

जीत जा!

ठहरी यही 

प्रीत की रीत!

Advertisements

अच्छा-बुरा... कुछ तो कहिये...

%d bloggers like this: