जन्मेगा या भ्रूणहत्या…

जन्मेगा या भ्रूणहत्या…

सत्य क्या है? .

तीसहजारी वाली सी…

मां तथ्या के
गर्भ में छुपा है…


महीनों बाद
गहन प्रसव पीड़ा उपरांत…
जीवित जन सकी
तो शिशु होगा
अन्यथा
भ्रूण हत्या का युग है

गर्भ समापन होगा?


कुछ सप्ताह बाद ही
किस चिकित्सक ने
किसके कहने से
किस नाली में बहाया…


कौन जान सकेगा…

पूछेगा कौन
कौन याद रखेगा ?
.

कभी तथ्या काकी
हारकर नियति से
टेस्टट्यूब सेंटर तक हो आई थी …
उन दिनों
उसके ढलते बदन पर भी
गहरी लालिमा छाई थी…
पर पता नहीं
पता चल भी पाया तथ्या काकियों को… कि नहीं…
कि कब-कब

किस-किस ने

कहां-कहां….

किसके कहने से

उसके भ्रूण की हत्या करवाई थी?


कौन पूछता है हमारे यहां
भ्रूण का बनना…
किसी तथ्या की कोख में
किसी विश्वसुंदरी सी
सत्या का पलना…
कौन सोचता है?
पानी के बुलबुले से
भ्रूण बनते रहते हैं….
अच्छे उत्पादक हैं हम
अच्छी फसल उगाते हैं…
पर अपनी ही उपज की
गुणवत्ता पर
विश्वास नहीं जता पाते हैं…
अपने आपको या
अपने उत्पादों को हम
कमतर ही… अधिक आंकते हैं…
शुभ की कामना से अधिक
अशुभ की आशंकाएं लिए हम
अनिष्ट बुलाते रहते हैं…!
और तो और
आशंका के सजीव होने में
हम अधिक सुख पाते हैं…!


हमारे अधिकांश प्रयास
निस्तेज ही होते हैं…
जैसे विवशता हो…

प्रयास करना…
ऐसे वेमन से किए जाते हैं…


तभी तो सत्य युग-युगान्तर में…
कभी कभार ही जन्म पाते हैं…
किंतु अजन्मे सत्य के भ्रूण
मां तथ्या के गर्भ में तो
हर दिन ही मारे जाते हैं!


जाने अब कभी
इस युग में
जन्म सकेगा सत्य?
या निस्तेज होती तथ्यायें…
बांझ कहलाते ही मरती जायेंगी….!!!

लेखक: सत्यार्चन.SathyaArchan

हिन्द-हिन्दी-हिन्दू-हित-हेतु..... वास्तविक हिन्द हितचिंतक मंच!. प्रयास और परिवर्तन के प्रबल पक्षधर पराजित नहीं होते... हो भी नहीं सकते !!! - #सत्यार्चन #SathyArchan #Satyarchan

अच्छा-बुरा... कुछ तो कहिये...