तुम तौलकर तो देखो

तुम भी मुस्करा देना •••
मुस्कान के बदले!
फिक्सिंग ही सही कर लो•••
मिले मान के बदले !!
तुम तौलकर तो देखो
दिल झूठ नहीं कहता
जरा पूछकर बताओ •••
बस इस बार सच ही कहना
ईमान के बदले!
कुव्बत से निकल-निकल कर
मैं होता रहा हल़ाक
तुम तौलकर तो देखो
मेरी जान के बदले!
Advertisements

लेखक: सत्यार्चन.SathyaArchan

हिन्द-हिन्दी-हिन्दू-हित-हेतु..... वास्तविक हिन्द हितचिंतक मंच!. प्रयास और परिवर्तन के प्रबल पक्षधर पराजित नहीं होते... हो भी नहीं सकते !!! - #सत्यार्चन #SathyArchan #Satyarchan