Menu

तुम फिर••• 

तुम फिर•••

फिर आ गये हो

तुम 

जगाने आस

गहराने प्यास

हर बार की तरह

करने निराश!

तुम ना आते

तो भी जी जाते

दर्द पीते आये हैं

पी जाते!

मगर शायद तुम्हें नहीं

इसने भर से संतोष

है अनंत…

तुम्हारा आक्रोश

तुम चाहते तो हो मुझे

सूली पर चढ़ाना

मगर सहलाते भी हो

बार बार

फिर हंटर उठाते हो

उधेड़ डालते हो मुझे

निढाल हो गिर पड़ने तक

फिर से उठाते हो

बिठाते हो

मरहम लगाते हो

और

फिर-फिर गिराते हो!

क्यों करते हो?

क्या चाहते हो?

Advertisements

अच्छा-बुरा... कुछ तो कहिये...

%d bloggers like this: