Menu

तुम शाम को मिलने जरूर आना !

तुम शाम को

मिलने

जरूर आना !

तुम्हारी नींद खुल जाये तो

खुद बोल कर बताना •••

हमसे नहीं हो पायेगा

तुम्हें सोते से जगाना !

हमने चांद से भी की है

इल्तिज़ा•••

जरा सी चाँदनी

हम पर भी बरसाना !

वो भला है

उसने हाँ कर दी•••

तुम ही

दग़ा ना दे जाना •••

तुम शाम को
मिलने
जरूर आना !

सूरज, चाँद, सितारे

बदलते नहीं राह

कहीं धूमकेतू बन

तुम भटक ना जाना •••

भीड़ ना बन जाना •••

तुम शाम को
मिलने
जरूर आना !

दुनियां का दर्द बहुत बड़ा
दो का अमन है

बुलबुलें तो चहकेंगी,
ये उनका चमन है

वहीं शेरों का है गुर्राना
डर कर ना लौट जाना

कोई बहाना ना बनाना,

तुम शाम को
मिलने
जरूर आना !

कहीं देर ना हो जाये इतनी कि

सियार रोने लग जायें

हमारे मिलन की
चाँदनी में

वो
मनहूसियत फैलायें

दूभर है राह

कहीं तुम्हारे

कदम ना डगमगायें

फिर जी चाहे तो भी

आप

हम तक आ ना पहुँच पायें •••

चाहो हमें पाना,

तो
मत घबराना,

चले आना,

बस देर ना लगाना •••

तुम शाम को
मिलने
जरूर आना !

#SathyaArchan

Advertisements

अच्छा-बुरा... कुछ तो कहिये...

%d bloggers like this:
टूलबार पर जाएं