Menu

दिल की सुन•••

दिल की सुन••• 

नर्म सिरहाने पे सर ,
हाथ दिल पर रखकर, 
सुन धड़कनों की सदा,
बस झुठलाना छोड़ दे,
तस्वीर दिल में बसी है,
देख ले और चूम ले,
आ तोड़ दायरे सारे,
अब शरमाना छोड़ दे,
ऐ दोस्त; जी ले कुछ पल,
मर-मर कर जीना छोड़ दे,
भरोसा कर अपने,
मनवा की पुकार पर,
बढ़ा हाथ, खुशी को थाम ले,
नाहक घबराना छोड़ दे!
#सत्यार्चन 

Advertisements
टैग्स:
%d bloggers like this: