देश सोया है; कोई इसे ना जगाये !!!

देश आजाद हुआ… क्या हुआ?

नया ‘माली’ हुआ बागवाँ… क्या हुआ?

इस बाग ने कितने तो ‘माली’ आजमाये ,

जो कहते जगाना है … और रखते सुलाये….

Advertisements

देश सोया है; कोई इसे ना जगाये !!!

जिसे ‘नया भारत’ चाहिये बनाये …
हम देश हैं, सोये हैं… हमें ना उठाये !!!
हम तो मौज में रहे जब … ‘जार्ज ‘थे…
और तब भी जब पैमाने सुराही ‘लार्ज’ थे;….
देश आजाद हुआ… क्या हुआ?
नया ‘माली’ हुआ बागवाँ… क्या हुआ?
इस बाग ने कितने तो ‘माली’ आजमाये ,
जो कहते जगाना है … और रखते सुलाये….
अब 21वीं में रक्खे या 14वीं में ले जाये….
करे जिसके जो जी में आये….
देश सोया है; कोई इसे ना जगाये !!!
#सत्यार्चन
Advertisements

लेखक: सत्यार्चन.SathyaArchan

हिन्द-हिन्दी-हिन्दू-हित-हेतु..... वास्तविक हिन्द हितचिंतक मंच!. प्रयास और परिवर्तन के प्रबल पक्षधर पराजित नहीं होते... हो भी नहीं सकते !!! - #सत्यार्चन #SathyArchan #Satyarchan

“देश सोया है; कोई इसे ना जगाये !!!” पर 2 विचार

  1. Madhusudan – Hi....... I am Madhusudan belong from a simple singh family, Economics (Hon) from Magadh University and at present working as a accounts Manager in private Construction company. I love my family as well as love to write Hindi Blogs, poems etc. I don't know who am I but my poems describes me & my thinking. I am ....... Neither rich nor a poor man, Neither happy nor a sad man, But my heart is very rich & happy. You can contact me on my gmail/facebook a/c: madhusudan.aepl@gmail.com namely madhusudan singh. thanks.
    Madhusudan कहते हैं:

    बहुत ही खूबसूरत—
    जिसे ‘नया भारत’ चाहिये बनाये …

    हम देश हैं, सोये हैं… हमें ना उठाये !!!

    1. सुबुद्ध.SathyaArchan – भारत – प्रयास और परिवर्तन के प्रबल पक्षधर पराजित नहीं होते...हो भी नहीं सकते !!! -हिन्द- हिन्दू - हिन्दी का वास्तविक हितचिंतक मंच!- #सत्यार्चन #SathyArchan #Satyarchan
      सत्यार्चन.SathyArchan कहते हैं:

      हाँ भाई हर कोई चाहता है कि अच्छा किया जाये…. बस कोई हमसे ना करवाये…!

आपके आगमन का स्वागत है... जाने से पहले अच्छा-बुरा... कुछ तो कहिये...!!!