Menu

नजर •••

नजर •••

ये जो नजर है तेरी
कहर है हम पर
उठती है झुकती है•••
तीर सी चुभती है•••
मचलता है वर्षों दिल •••
सुलगता रहता है जिस्म!

Advertisements

अच्छा-बुरा... कुछ तो कहिये...

%d bloggers like this:
टूलबार पर जाएं