नव विहान! 

ऎ दिल

काश ! कोई होता—

जिस से ,
मैं भी कह लेता
दर्द अपने —
तो जी लेता !

भीड़ में अकेले
यूँ ही जीते हुए
अपने अश्क आप ही
पीते हुए
तो जिया नहीं जाता ना !

संघर्ष जीवन का
करते सभी हैं
प्रयासों में घायल
होते सभी हैं
पर अपने जख्म आप ही
सहलाते हुए
दर्द में अपने आपको
बहलाते हुए
कोई कब तक जिये ?
क्यों कर जिये?

ऐ दिल !
पागल!
पन्ख पसार अपने
उड़ान भर
मनचाहे नीड़ के मिलने तक
या अपनी सांसो के थमने तक
लम्बी ऊँची उड़ान भर——
जा भुला दे
जो पीछे छूट गया
अन्धेरी रात का दुःस्वप्न
जो टूट गया

प्रतीक्षित होगा
कहीं तो कोई
तेरे लिए  !
कहीं तो
कभी तो
होगा

नवविहान!

#सत्यार्चन

लेखक: सत्यार्चन.SathyaArchan

हिन्द-हिन्दी-हिन्दू-हित-हेतु..... वास्तविक हिन्द हितचिंतक मंच!. प्रयास और परिवर्तन के प्रबल पक्षधर पराजित नहीं होते... हो भी नहीं सकते !!! - #सत्यार्चन #SathyArchan #Satyarchan

“नव विहान! ” पर 4 विचार

    1. धन्यवाद्
      आप चाहें तो
      हमारी अनौखी परस्पर सहयोग योजना में
      साथ जुड़िये
      साथ दीजिये
      साथ लीजिये
      सबका सहयोग कर
      सबसे सहयोग ले
      सब आगे बढ़िये…..
      साथ आइये …
      साथ लाइये …
      फालो कीजिये –
      https://lekhanhindustani.com
      … साथ पाइये
      हमारा, लेखन हिन्दुस्तानी के वर्तमान और भावी सदस्यों का!!!!!!
      – सत्यार्चन

अच्छा-बुरा... कुछ तो कहिये...