पर्यावरण संरक्षण! 

पर्यावरण संरक्षण!

तू मेरा संरक्षक है
मैं क्या करूँ तेरा संरक्षण!
मातपिता और धरती-अम्बर
मेरे आराध्य••• मेरे गुरुवर!
मैं आराधक! हूँ मैं सेवक!
जिनसे हूँ खुद मैं संरक्षित
क्या दे सकूँ उन्हें संरक्षण!
मेरी साँसें मेरा जीवन
सर्वस्व न्यून है करूँ जो अर्पण!
आभार तेरा परिवेश मेरे
पूज्य मेरे तुम, पर्यावरण!
कैसे करूँ मैं तेरा संरक्षण!

Advertisements

लेखक: सत्यार्चन.SathyaArchan

हिन्द-हिन्दी-हिन्दू-हित-हेतु..... वास्तविक हिन्द हितचिंतक मंच!. प्रयास और परिवर्तन के प्रबल पक्षधर पराजित नहीं होते... हो भी नहीं सकते !!! - #सत्यार्चन #SathyArchan #Satyarchan

अच्छा-बुरा... कुछ तो कहिये...