फ़तह

कौन कहता है••• 

है फ़तह बहुत मुश्किल? 

कर मशक्कत माकूल 

और   

करता रह मुसलसल•••

हो जायेगी नामुमकिन

 दिखती भी हासिल

हो खड़ी दूर कितनी भी,

 फिक्र नहीं करना •••

 बस रखना मुकद्दस,

 तू सदा अपनी मंजिल! 
-सत्यार्चन 

 

Advertisements

लेखक: सत्यार्चन.SathyaArchan

हिन्द-हिन्दी-हिन्दू-हित-हेतु..... वास्तविक हिन्द हितचिंतक मंच!. प्रयास और परिवर्तन के प्रबल पक्षधर पराजित नहीं होते... हो भी नहीं सकते !!! - #सत्यार्चन #SathyArchan #Satyarchan