Menu

मन गीत

 

1-
दर्द का अहसास जिन्दा है….
तो हर एक आस जिन्दा है…
 जीना दिल की धड़कन से नहीं…

धड़कन में गीत ही जीवन है

  1. 2-

तू चाँद थी
तू चाँद है
तेरा चाँद होना
है एक सच!
मैं सूरज
अपनी आग 🔥 बुझा
तुझ चाँद का
दाग अब बन बैठा!

3-

प्यास से मुखातिब हुई चाहतें …

जंजीरों में जकड़ी थी तब ख्वाहिशें …

गुफ्तगू तमाम खयालों में हुई…

खामोशियाँ बेसाख्ता चीखती रहीं

हसरतें तब भी मगर खामोश थीं …

4-

रात दिन झूठ,
झूठ
और बस झूठ
दिल 💘 से पढ़ते हो
दिल 💘 से देखते हो,
दिल 💘 से कहते हो
और
दिल 💘से ही सुनते हो!
दिल की खता को फिर
आँखों पर क्यों मढ़ते हो!
-सत्यार्चन

Advertisements
टैग्स:
%d bloggers like this: