Menu

मुरझाया फूल

मुरझाया फूल

दिल में आया
फूल मुस्कुराया!
दिल में समाया
फूल मुरझाया!!
सच कहूँ तो फूल
नहीं जीता तुम्हारी तरह
आस में निराश में
वो नहीं सुनता है
कब कौन क्या कहता है
जो हो रहा होता
बस वही समझता है!
डाली पर होता है
तो भरपूर खिलता है
टूटकर बिछड़ता है तो
चंद ही पल जीता है
आस छूटते ही
साँस तोड़ देता है !
फूल होता है खिलने को
इसलिए खिलता है!

Advertisements
%d bloggers like this: