रा-फेल

‘रा-फेल’ यानी राहुल गाँधी फेल!
सर्वोच्च न्यायालय ने अपने निर्णय में बहुत स्पष्ट कहा है कि
1- “रा-फेल” खरीदी में केवल “छोटी-मोटी” त्रुटियों के अलावा प्रक्रिया नियमानुसार ही थी!
2- वायुसेना के उच्चाधिकारियों ने विमान खरीद को आवश्यक बताया!
3- विमान के मूल्य के उचित या अनुचित होने की पुष्टि करना कोर्ट का कार्य नहीं!
3- रिलायंस को विमान संजोने के अधिकारों का सम्बन्ध सरकार से नहीं है इसीलिये उसपर टिपण्णी नहीं!
4- न्यायमूर्तियों ने एक और महत्वपूर्ण आदेश जारी किया कि आगे किसी जांच की जरुरत ही नहीं है!
मेरी मोटी बुद्धि में तो “रा-फेल” के मूल मुद्दे ही वही थे जिनपर माननीय न्यायमूर्तियों ने टिपण्णी या व्यवस्था या निर्णय देने से ही इंकार कर दिया है!

लेखक: सत्यार्चन.SathyaArchan

हिन्द-हिन्दी-हिन्दू-हित-हेतु..... वास्तविक हिन्द हितचिंतक मंच!. प्रयास और परिवर्तन के प्रबल पक्षधर पराजित नहीं होते... हो भी नहीं सकते !!! - #सत्यार्चन #SathyArchan #Satyarchan

अच्छा-बुरा... कुछ तो कहिये...