विदाई

– विदाई – .
किसी के गले से लगना था
गले से किसी को लगाना था
.
ना कोई गले से लग सका
ना गले से कोई लगा सका…
.
किसी के दिल में बसना था
किसी को बसाना था दिल में;
.
ना कोई दिल में बस सका
ना बसा सका कोई दिल में …
.
आखिर विदाई की घड़ी आई..
और हो गई उसकी विदाई!
.
#सत्यार्चन

लेखक: सत्यार्चन.SathyaArchan

हिन्द-हिन्दी-हिन्दू-हित-हेतु..... वास्तविक हिन्द हितचिंतक मंच!. प्रयास और परिवर्तन के प्रबल पक्षधर पराजित नहीं होते... हो भी नहीं सकते !!! - #सत्यार्चन #SathyArchan #Satyarchan

“विदाई” पर 2 विचार

Leave a Reply to Raja Dewangan Cancel reply