व्यर्थ की आशायें

मैं ही होता हूँ

सदा की तरह

एकाकी

अ’मृत…

Advertisements

व्यर्थ की आशायें

 आज की भोर भी

रोज सी ही थी

सुनहरी किरणें बिछी थीं …

और तुम ना थे….

http://lekhanhindustani.com/2017/08/05/व्यर्थ-की-आशायें

 

मगर तुम तो

दिन,  शाम और रात में भी

होते ही कब हो….

बस

मैं ही होता हूँ

सदा की तरह

एकाकी

अ’मृत

व्यर्थ की आशाओं के साथ …

#सत्यार्चन

 

 

 

 

Advertisements

लेखक: सत्यार्चन.SathyaArchan

हिन्द-हिन्दी-हिन्दू-हित-हेतु..... वास्तविक हिन्द हितचिंतक मंच!. प्रयास और परिवर्तन के प्रबल पक्षधर पराजित नहीं होते... हो भी नहीं सकते !!! - #सत्यार्चन #SathyArchan #Satyarchan

“व्यर्थ की आशायें” पर 3 विचार

अच्छा-बुरा... कुछ तो कहिये...