Menu

सपने पालो तो सही … होंगे तभी तो … सच हो पायेंगे ना !

सपने पालो तो सही … होंगे तभी तो … सच हो पायेंगे ना !

 सपने… सच हो सकें…

दोस्तो,

बेशक

 सभी के

 सारे सपने

 कभी सच में नहीं बदल पाते

 मगर,

 उससे बड़ी सच्चाई है कि

 सपने

केवल उनके सच हो सके

जिन्होने पहले सपने देखे

फिर उन्हें पाला,

अपने सपनों से

 दीवानगी की हद तक मोहब्बत की,

अपने सपने को

अपना जुनून बना डाला …

जिनने अपने सपनों को जिया…..

और वो …..

जो सपने देखने तक से डरते हैं

 वो क्या जानें कि

सपनों के जीने भर में ही

कितना शुरूर है

और सच होने का जलसा 

कैसा अनौखा होता है….

                    (12 अगस्त 2013) – #सत्यार्चन

Advertisements

3 thoughts on “सपने पालो तो सही … होंगे तभी तो … सच हो पायेंगे ना !”

  1. Raja Dewangan कहते हैं:

    बिलकुल सही 👌👌👌👌

    1. सत्यार्चन.SathyArchan कहते हैं:

      हाँ दोस्त सपनों से क्या डरना!

  2. Madhusudan कहते हैं:

    सच कहा जिसने सपने नही देखा उसने क्या जिया।सपनो से डरकर जीना क्या जीना।

अच्छा-बुरा... कुछ तो कहिये...

%d bloggers like this: