आस तो आस है… 20160729_093222

पसलियों के पिंजरे में ….
धड़कता है जैसे दिल ….
पत्थरों के बीच खुश हैं हम ….
कभी तो पत्थरों पर भी…
हरियाली छा ही जायेगी …

Advertisements

गुमनाम है कई ….

Advertisements