देश सोया है; कोई इसे ना जगाये !!!

देश सोया है; कोई इसे ना जगाये !!!

जिसे ‘नया भारत’ चाहिये बनाये …
हम देश हैं, सोये हैं… हमें ना उठाये !!!
हम तो मौज में रहे जब … ‘जार्ज ‘थे…
और तब भी जब पैमाने सुराही ‘लार्ज’ थे;….
देश आजाद हुआ… क्या हुआ?
नया ‘माली’ हुआ बागवाँ… क्या हुआ?
इस बाग ने कितने तो ‘माली’ आजमाये ,
जो कहते जगाना है … और रखते सुलाये….
अब 21वीं में रक्खे या 14वीं में ले जाये….
करे जिसके जो जी में आये….
देश सोया है; कोई इसे ना जगाये !!!
#सत्यार्चन
Advertisements

टिप्पणियाँ

2 comments on “देश सोया है; कोई इसे ना जगाये !!!”
  1. Madhusudan कहते हैं:

    बहुत ही खूबसूरत—
    जिसे ‘नया भारत’ चाहिये बनाये …

    हम देश हैं, सोये हैं… हमें ना उठाये !!!

    Liked by 1 व्यक्ति

    1. सत्यार्चन.SathyArchan कहते हैं:

      हाँ भाई हर कोई चाहता है कि अच्छा किया जाये…. बस कोई हमसे ना करवाये…!

      Liked by 1 व्यक्ति

अच्छा या बुरा जैसा लगा बतायें ... अच्छाई को प्रोत्साहन मिलेगा ... बुराई दूर की जा सकेगी...

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s