इंसान! हैवान!! भगवान!!!

द्वारा प्रकाशित किया गया

इंसानी वेअक्ली पर

बहुत तरस आता है !
जिंदा को तो ये लट्ठ दिखाता
और मृत की समाधि को

मिठाई खिलाने जाता है!!

कहलाना तो चाहता है

महान
हर इंसान !

मगर कर भी नहीं पाता,
खुद से तक पहचान!
नादान!
हैवानों को पूछता
मूरतों को पूजता,

ताउम्र नकारता
अपने ही भीतर

बैठा हुआ भगवान!
-सत्यार्चन

अच्छा या बुरा जैसा लगा बतायें ... अच्छाई को प्रोत्साहन मिलेगा ... बुराई दूर की जा सकेगी...

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s