स्वार्थ हेतु परमार्थ…

द्वारा प्रकाशित किया गया

स्वार्थ हेतु परमार्थ…

💐मानव जीवन अनंत उत्पादों के उत्पादक #एक_अनौखे_उद्योग की तरह है…💐

💐संसार के हर मानव को,
#स्वार्थसिद्धि_के_उत्पाद_की
अनिवार्य तथा #सर्वाधिक_आवश्यकता_होती_है!💐

💐#मानव_जीवन रूपी उद्योग में…
स्वार्थसिद्धि का #सर्वाधिक_के_साथ_साथ_सर्वश्रेष्ठ उत्पादन… 💐

💐💐 #धर्मार्थ_उत्पादित_परमार्थ
..के मुख्य उत्पाद के साथ..
#उपउत्पाद_के_रूप_में ही.
प्राप्त होता है!💐💐

– ‘सत्यार्चन’

अच्छा या बुरा जैसा लगा बतायें ... अच्छाई को प्रोत्साहन मिलेगा ... बुराई दूर की जा सकेगी...

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s