भाव और शब्द

द्वारा प्रकाशित किया गया

जहाँ कर्तव्यों, भावनाओं और हित-साधनों के आदान प्रदान में हृदय भी सहयोगी हों वहाँ रिश्ते स्वस्थ और दीर्घायु होते हैं!
– ‘सत्यार्चन’

.

भावाभिव्यक्ति हो हो तो मौन में भी सकती है… किंतु शब्दों से उसकी पुष्टि भी होती रहे तो… माधुर्य अधिक व शीघ्र प्रगाढ़ होगा!

– ‘सत्यार्चन’

दर्द लिखना पड़े…
या दिखाना जरूरी..
मोहब्बत कितनी किसको
चाहे गवाही…
ना मेहसूस हो..
ना कराई जा सकी..
तो
तुम ही कहो..
कहकर भी क्या हासिल?

– ‘सत्यार्चन’

अच्छा या बुरा जैसा लगा बतायें ... अच्छाई को प्रोत्साहन मिलेगा ... बुराई दूर की जा सकेगी...

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s