Menu

श्रेणी: हिंदी रत्न

भारत लेखन हिन्दुस्तानी हिंदी रत्न हिन्दी

निष्फल-सत्संग!

निष्फल-सत्संग!  अपनी प्रेक्षण क्षमता व उपलब्ध साधनों की सहायता से एक बार अपने आसपास, परिचितों, समाज,  देश में,  स्वयं ही देखकर निम्न का आंकलन कीजिए- 1- प्रतिष्ठित भजन /कैरल्स / सूफी के गायक। 2- प्रतिष्ठित ‘भक्ति-काव्य’ गायन मंडली के प्रमुख। 3- प्रतिष्ठित प्रवचन-कर्त्ता! 4- प्रतिष्ठित पुजारी / पादरी /मौलाना! 5- प्रतिष्ठित उपदेशक••• आदि! ध्यान दीजिएगा […]

Advertisements

भारत लेखन हिन्दुस्तानी हिंदी रत्न हिन्दी

कर्ज चुकायें-पुण्य कमायें! 

*कर्ज चुकायें-पुण्य कमायें!* जिसकी गोद में खेलकर बड़े हुए, जिससे सब कुछ अधिकार पूर्वक लेते रहे, उसकी तरफ भी, कुछ तो जवाबदेही बनती है ना हमारी…! *प्रकृति / कुदरत से, बस कर्ज लिये जा रहे हैं… इस कर्ज को   उतारने की क्यों नहीं सोचते?* क्या नहीं लेते हैं हम प्रकृति से…? और जो भी लेते हैं […]

हिंदी रत्न हिन्दी

मुझे उपदेश का अधिकार नहीं?

मुझे उपदेश का अधिकार नहीं?  मेरे सुझावों/ संदेशों को अव्यवहारिक मान सकते हैं .. इसीलिये यह अग्रिम स्पष्टीकरण देना अपना कर्त्तव्य समझ प्रस्तुत कर रहा हूँ } – साथ ही एक निवेदन भी कि – “उपदेशक के व्यक्तित्व से अधिक सन्देश की उपयोगिता को महत्त्व देना चाहिए ” गोस्वामी तुलसीदास जी कहते हैं – पर […]

हिंदी रत्न

मेरी तस्वीरें मेरी भावनायें….

मेरी तस्वीरें मेरी भावनायें…..

हिंदी रत्न Uncategorized

अवयस्क अपराध नियंत्रक

अवयस्क अपराध नियंत्रक.

हिंदी रत्न Uncategorized

श्रद्धांजली!!!

श्रद्धांजली!!!.

हिंदी रत्न Uncategorized

ज़िद है जिद

   जिद है जिद….. दोस्तो: हम हिन्दी हमारी संस्कृति के प्रति इतने कृतघ्न हो चुके हैं कि हम हमारे  संस्कारों के उपहास में स्वयं भी ना केवल सम्मिलित ही हैं वरन अपने ही उपहास पर अट्टहास किए जा रहे हैं!!!!!! . वे जो षणयंत्रकारियों के चंगुल में असहायता-वश जा फँसे हैं या अविवेक-वश उन्हें भी […]

%d bloggers like this: