Hindi Poem on Human Life-Manav — Hindi Poems|हिंदी कविता संग्रह

मानव यह ज़िन्दगी तेरी मनुष्य,मुसीबतों से भरी है,यह किसीऔर ने नहीं,बस, तूने स्वंय ने ही भरी है। करता अगर संघर्ष ज़िन्दगी में,तो होते न तेरे सपने दफन,यूं न चला जाता दुनिया से,ओढकर असफलता का कफन।।-राजप्रीत हंस

via Hindi Poem on Human Life-Manav — Hindi Poems|हिंदी कविता संग्रह

लेखक: सत्यार्चन.SathyaArchan

हिन्द-हिन्दी-हिन्दू-हित-हेतु..... वास्तविक हिन्द हितचिंतक मंच!. प्रयास और परिवर्तन के प्रबल पक्षधर पराजित नहीं होते... हो भी नहीं सकते !!! - #सत्यार्चन #SathyArchan #Satyarchan

अच्छा-बुरा... कुछ तो कहिये...