रिश्ते! Relationships !

via Site Settings ‹ लेखन हिन्दुस्तानी — WordPress.com

रिश्ते! Relationships !

रिश्ते आपकी परछाईं या प्रतिबिम्ब की तरह हैं…

Relationships are alike your shadows or mirror images…

आपके प्रतिबिम्ब का सौंदर्य आपकी स्थिति पर निर्भर है

आपके रिश्तों का भी…!

Your mirror image looks as you are…

Similarly your relationships do …

 जितने आप सुदृढ़ होंगे उतना आपका प्रतिबिम्ब होगा…

आपके रिश्ते भी…!

As Stronger you are as your images …

Similarly your relationships do…

यदि आपका रुख ऊगते सूर्य की ओर है/ रोशनी की ओर है तो आपकी परछाईं आपका पीछा कर रही होगी…

और यदि आपकी गति सूर्य/ रोशनी की विपरीत दिशा में है तो आप परछाईं का पीछा कर रहे होंगे…

किन्तु यदि आप सूर्य़/ रोशनी से दूर अंधेरे में हैं तो परछाईं कहीं नजर नहीं आयेगी….।

आपके रिश्ते भी….

@सत्य+अर्चन

If you are moving towards Sun / lights your shadow would follow you….

If you you are moving opposit to Sun / lights you would be following your shadows …

If you are away of Sun / lights,  (in dark) you won’t find any shadow of yours …

Similarly your relationships do …

@sathyarchan

Advertisements