Menu
भारत लेखन हिन्दुस्तानी हिन्दी

स्वामी जी के परिजन – हम भारत

सुप्रभात भारत! ▶स्वामी विवेकानन्द के ज्ञानार्जन का लाभ केवल अमेरिका जैसे बाहरी प्रागैतिक समाज ने उठाया! स्वामी जी के आराध्य उनके घर 🏠 उनकी मातृभूमि ने उनके जीवित रहते उनका मखौल उड़ाने सहित अधिकांशतः अनादरण ही किया! उनके दिव्यालीन होने पर कालान्तर में उनकी तस्वीरों/मूर्तियों/ मंदिरों के रूप में उनकी पूजा शुरू कर दी गयी! […]

Advertisements

लेखन हिन्दुस्तानी

अनंतिम क्षण

Waited, waiting n waiting! स्रोत: अनंतिम क्षण

लेखन हिन्दुस्तानी

Would you know?

Haven;t any ord to state …. just have a look to be speechless ….

लेखन हिन्दुस्तानी हिन्दी

रोशन हुए चिराग

रोशन हुए चिराग फिर से महफिल में रूठकर जाने वाले लॊट जो आये हॆं! . कब तक कोई सुनाये अशआर दिल-ए-खूं से जाने कोई कतरा कभी छूकर भी गुजरा कि  नहीं …. . खुदबखुद खुश होते ओढ़ लेते खुशफहमी खुद ही रूठते खुद से खुद खुद को मनाते हॆं … बेवजह, बेमकसद यूं ही बेकार जिये […]

लेखन हिन्दुस्तानी

Taking of a Golden Step 

​+Broadcast Message+ TAKING A STEP TOWARDS GOLDEN FUTURE Generally people don’t  but  I do / You might do …. we must do! We have to come together to strengthen our own people / our  near n dear ones /  ourselves in any manner what we can! Through strengthening our people / each other ……… in […]

भारत लेखन हिन्दुस्तानी हिन्दी

साप्ताहिक विचार – १

अभी-अभी मेरे 17+1 = 18 बच्चे सीमा पर कर्तव्यस्थ रह, देश की रक्षा करते-करते वीरगति को प्राप्त हुए हॆं! उनके इस उत्सर्ग को प्रणाम! दुश्मन से बदला सेनाध्यक्ष ने निर्धारित कर लिया हॆ! हमें उनकी क्षमता पर तनिक भी संदेह नहीं होना चाहिए! राष्ट्रहित में उचित निर्णय करने में हमारे राष्ट्राध्यक्ष सदा से सक्षम थे […]

लेखन हिन्दुस्तानी

#HappyBirthdaPM#

लेखन हिन्दुस्तानी

भाषा माँ, गोरी मेम ऒर भिखारन -हिन्दी दिवस पर…

​हिन्दी दिवस पर समझना ऒर स्वीकारना भी होगा कि हिन्दी की दुर्दशा के दोषी ही नहीं हम मध्य भारतीय अपराधी भी हॆं!  हम हमारे स्वयं के ऒर अपनों के, अंग्रेजी ग्यान का बखान करते हुए,  हिन्दी  गिनती ऒर प्रचलित  बोलचाल के शब्दों को भी जानने से अनजान बनते रहते 😜 हॆं! यह ठीक वॆसी ही […]

लेखन हिन्दुस्तानी

नव विहान! 

ऎ दिल काश ! कोई होता— जिस से , मैं भी कह लेता दर्द अपने — तो जी लेता ! ▪ भीड़ में अकेले यूँ ही जीते हुए अपने अश्क आप ही पीते हुए तो जिया नहीं जाता ना ! ▪ संघर्ष जीवन का करते सभी हैं प्रयासों में घायल होते सभी हैं पर अपने […]

%d bloggers like this: