Menu
हिन्दी

फ़तह

कौन कहता है•••  है फ़तह बहुत मुश्किल?  कर मशक्कत माकूल  और    करता रह मुसलसल••• हो जायेगी नामुमकिन  दिखती भी हासिल हो खड़ी दूर कितनी भी,  फिक्र नहीं करना •••  बस रखना मुकद्दस,  तू सदा अपनी मंजिल!  -सत्यार्चन    Advertisements

Advertisements

हिन्दी

गुनाह!

गुनाह!  मानवता को पीट-पीट कर  मारा जा रहा था••• वो मानव था करने लगा बीच बचाव, उसका क्या गुनाह  उसे क्यों मिलती नहीं पनाह  चीखता नहीं है वो पर रुकती नहीं कराह••• उसके अंदर जीवित हैं  संवेदनायें  बस यही उसका गुनाह! 

हिन्दी

सुख चाहिये? ये लीजिए! -9

सुख चाहिये? ये लीजिए! -9  *हम अपने स्वयं के  सबसे अच्छे मित्र और सबसे बड़े शत्रु होते हैं क्योंकि हमको हमसे ज्यादा कोई और नहीं जानता ना ही जान सकता और केवल हम ही हममें कोई परिवर्तन कर सकते हैं••• कोई दूसरा नहीं! * -हम अपने आपके बिषय में अकसर अनेक उद्घोष करते रहते हैं! जैसे- मुझसे […]

भारत लेखन हिन्दुस्तानी हिन्दी

दोगले 

:- दोगले -:  शाम का अंधेरा घिर रहा था, पंछियों के साथ- साथ थके माँदे मेहनती लोग भी घर लौट रहे थे, शहर की बिजली  जो ईमानदारी की तरह कभी भी गायब होते रहती थी। इस समय भी गायब ही थी, गया ईमान कब लौटे •••• लौटे या ना भी लौटे••• कौन जाने! मैं भी […]

हिन्दी

तत्व दर्शन! 

<तत्व दर्शन!>

हिन्दी

आइये ब्लाॅगर… स्वागत है आपका!

आइये ब्लाॅगर… स्वागत है आपका! पूर्व घोषणा अनुसार आपका अपना ब्लाॅग “लेखन हिन्दुस्तानी” बिजनेस ब्लाॅग में परिवर्तित होकर अब समूह ब्लाॅग हो गया है! “लेखन हिंदुस्तानी” को आप; अपनी रचनाओं से सुसज्जित, आपके निजी ब्लाॅग के नि:शुल्क विज्ञापन हेतु उपयोग कर सकते हैं! आपका स्वागत है- (1) आपकी सर्वोत्तम रचना के साथ आपकी ब्लाॅग लिंक्स […]

भारत लेखन हिन्दुस्तानी हिन्दी

वर्तमान आरक्षण व्यवस्था सरकारी मोटराइज्ड व्हीलचेयर है!

वर्तमान आरक्षण व्यवस्था में; चलने में कमजोर आरक्षितों को मोटराइज्ड व्हीलचेयर पर बिठाकर नैसर्गिक सक्षम लोगों के साथ चलाने, बढ़ाने, दौड़ाने जैसा मूर्खता पूर्ण व आभासी प्रयास किया जा रहा है!

हिन्दी

सुख चाहिये? ये लीजिये! – 8

बनावटी युग में जीते हुये हम बनावटी होते गये! सच तो यह है कि जिन छोटी छोटी चीजों में / बातों में हम खुश हो सकते हैं उनमें सम्मिलित होना ही हम ओछापन /स्तरहीनता मानने लगे ! अगर इसे समझना है तो यूँ करें कि अपने आसपास के लोगों के दिखावटीपन और शर्मसार होने के […]

भारत लेखन हिन्दुस्तानी हिन्दी

सुख चाहिये? ये लीजिये!-7- सत चिंतन…

सुख चाहिये? ये लीजिये!-7- सत चिंतन… ईश्वर को समझना है तो आत्मा को समझें … बिल्कुल राष्ट्र को समझने के लिये नागरिक को समझना की तरह … किसी भी राष्ट्र की इकाई उसके नागरिक हैं … इसीलिये मैं कहता हूँ “मैं भारत हूँ” किन्तु केवल मैं ही भारत नहीं हूँ वरन् मैं भी भारत हूँ […]

भारत लेखन हिन्दुस्तानी हिन्दी

सुख चाहिये? ये लीजिये- 6 (जीवन में सुख के रंग)

सुख चाहिये? ये लीजिये- 6 (जीवन में सुख के रंग) सभी रंगों की अपनी-अपनी महत्ता है यही महत्ता याद दिलाने प्रतिवर्ष होलिकोत्सव आता है! 💓 जानवरों के जीवन में तो दो ही रंग होते हैं, श्वेत व श्याम किंतु मानव जीवन अनेक  शुभ-अशुभ रंगों से मिलकर ही सजता है! शुभ रंगों की समग्र, सम्पूर्ण चाह हर एक को है… […]

%d bloggers like this: