जाग जरूर जाइये!

मेरे शोधों को सविस्तार जानने या मेरे इस कथन  की पुष्टि करने के लिए वेब सर्च पर मेरे नाम “SathyaArchan”  को ही खोज कर देख लीजिये ! कुछ लिंक्स भी अगले संदेशों में दे रहा हूँ•••  पुष्टि कर लीजिए किन्तु निवेदन है कि जाग जरूर जाइये!

Advertisements

मेरी प्रार्थना है कि ईश्वर उन्हें शीघ्र स्वस्थ करें!- “सुबोध ऋषि”
मैं सबके शुभ की कामना और प्रार्थना तो कर सकता हूँ किन्तु इस कामना की पूर्ति आपकी योग्यता पर निर्भर है•••! यदि आपमें प्राप्त सूचनाओं में से निरपेक्ष रह सत निकाल उपयोग करने की क्षमता है तो ठीक है अन्यथा भ्रामक  अपुष्ट सूचनाओं पर आपका अकारण विद्वेष, भ्रम, दर्प पालना भी प्रकृति  को रुष्ट करने के लिये पर्याप्त है और आप संकट में हैं! इसीलिए समय कुछ व्यवस्था बनाये रखने की विवशता से तो कुछ आदत से मजबूर मूर्ख, ऐसे संकटकाल में भी, अपने या अपनों के अज्ञान, अधर्म, असमर्थता को दूसरों पर मढ़ने में व्यस्त हैं ••••!
आप सबसे मेरी सविनय प्रार्थना है कि यह  समय अभिमान के परित्याग का है!  निरभिमान होने का है! अंतरदर्शन का है! आत्मावलोकन का है!अपने अकृत के स्वीकार का है! पश्चाताप का है! अपनी भूल सुधार की वचनबद्धता सहित क्षमायाचनाओं का है!  कीजिए क्योंकि आप वोरिस जानसन जी से अधिक सावधानी पूर्ण (मानव रचित) सुरक्षा चक्र में नहीं रहते••• यदि उन्हें कोरोना पीड़ित कर सकता है तो••• आप वोरिस जाॅनसन जी से अच्छी स्वास्थ्य सुविधायें नहीं पा सकते••• नियति के आगे वे भी विवश हैं••• उनके या  प्रिंस चार्ल्स के ऊपर खांसने/ छींकने की धृष्टता किसने  की होगी? किसकी क्षमता रही होगी   उन तक असंक्रमित किए बिना दूषित भोजन या वस्तुएँ पहुँचाने की?
यदि आपको लगता है कि आप उनसे अधिक अच्छे सुरक्षा चक्र में हैं तो अपने अधर्म,  अनाचार, दष्टतायें आगे भी करते रहिये या फिर कीजिये प्रायश्चित!
मेरे अपनों के अर्थात आप सबके हित में, मैं  जागृत अंतर्चेतना से प्राप्त संदेशों/ संकेतों को  सार्वजनिक करते आया हूँ! विगत सन् 2006 से प्राकृतिक प्रकोपों की पूर्वचेतावनी भी ट्विटर      #सतचेतक, #सत्यालर्ट, #SathyaAlert, #SathyAlert, #Satyalert पर  देते आ रहा हूँ••• प्रलय की आहट की चेतावनी व चिंता जताते आ रहा हूँ•••  आकृत के परित्याग एवं अनुकृत के अंगीकरण पर मेरा यू ट्यूब चेनल है! ‘ब्रम्हाकुमारी’ संस्था व फेसबुक के सहयोग से भ्रमित/  पीड़ित जनों का मार्गदर्शक हूँ!  रेकी के ग्रेट ग्रेंड मास्टर हमीरसिंह जी के मित्र वत सानिध्य से समृद्ध हुआ हूँ! सनातन के अतिरिक्त, सिख, जैन, बहाई, इस्लामिक, ईसाई व बौद्ध धर्माचार्यों से अनेक चर्चाओं से निकले निष्कर्षों को समेटे हुए हूँ! निज धर्म, कर्म व योग पर एवं वर्तमान पर मेरे शोधों को सविस्तार जानने या मेरे इस कथन  की पुष्टि करने के लिए वेब सर्च पर मेरे नाम “SathyaArchan”  को ही खोज कर देख लीजिये ! कुछ लिंक्स भी अगले संदेशों में दे रहा हूँ•••  पुष्टि कर लीजिए किन्तु निवेदन है कि जाग जरूर जाइये!
आज अभी बस इतना ही निर्देश अर्थात विनय  है कि-
1- यज्ञ, अग्निहोत्र या हवन या लोभान कीजिये! (24 घंटे में एक बार घर के आगे, पीछे, अगल-बगल जहाँ  जहाँ खुला है, तथा प्रत्येक कक्ष में एक साथ 5 से 10 मिनट धूपबत्ती से भी हवन का प्रभाव पाया जा सकता है!)
2- सर्दी जुकाम होते से प्राकृतिक चिकित्सा साधनों से शीघ्र से शीघ्र स्वस्थ होने का प्रयास कीजिये! अनार के 20 पत्ते+ बिही के 10 पत्ते+ 10 लोंग (यदि तीनों उपलब्ध हों तो उत्तम अन्यथा 2 या कोई 1 भी उपयोगी है) पानी में उबालकर इसकी भाप लीजिए और इसी पानी को गुनगुना होने पर इससे गरारे (गर्गल्स) कीजिए! इन तीनों में से कुछ भी ना हो तो विक्स, पुदीना, पिपरमिंट, काली मिर्च, हल्दी नीलगिरि के पत्ते में  से किसी भी एक को उबलते पानी में डालकर इसकी भाप ली जा सकती है नहीं  तो सादा पानी की ही सही भाप लीजिये!
3- कैसी भी अस्वस्थता होने पर सबसे बेहतर होगा कि आप अपने डाॅक्टर से इलाज लीजिए!
– सुबुद्ध सत्यार्चन 

UK PM Boris Johnson moved to ICU as coronavirus symptoms ‘worsen’
http://dhunt.in/99USD?s=a&ss=wsp
Source : “Hindustan Times” via Dailyhunt

Download Now
http://dhunt.in/DWND

Advertisements